Monday, March 4, 2024
Homeরাজ্যडाइवर्जन खोलने के लिए 2 दिन का अल्टीमेटम

डाइवर्जन खोलने के लिए 2 दिन का अल्टीमेटम

भिवानी/रवि जांगड़ा

भिवानी में फ्रेंडस कॉलोनी के लोग जिला प्रशासन द्वारा समाधान का भरोसा देकर समाधान ना करने से फिर खफा हैं। कॉलोनी के लोगों ने एक बार फिर एसडीएम के आश्वासन पर दो दिन का अल्टिमेटम दिया है। इसके बाद 31 जुलाई को बच्चों और महिलाओं को साथ लेकर बड़ा आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

भिवानी में तोशाम बाइपास रोड पर रेलवे ऑवर ब्रिज का निर्माण कार्य जारी है, जिसके चलते वहां से दिनभर गुजरने वाले वाहनों को फ्रेंडस कॉलोनी के रोङ पर डाइवर्ट कर दिया गया है। इसमें भारी वाहन भी शामिल हैं। फ्रेंडस कॉलोनी की सड़क बहुत छोटी और कमजोर है। कुछ दिनों में ही भारी वाहनों की आवाजाही से ना केवल ये रोड टूटने लगी है बल्कि यहां सिवरेज का मेन हॉल भी टूट गया है। यहां दिनभर जाम की स्थिति बनी रहती है। यही नहीं भारी वाहनों के चलते यहां मकान क्षतिग्रस्त होने और किसी बड़े हादसे की आशंका भी बनी रहती है.

 फ्रेंड्स कॉलोनी के निवासियों ने उपायुक्त अजय कुमार से लेकर संबंधित सभी अधिकारियों से मुलाकात की. समाधान नहीं होने पर 20 जुलाई को कॉलोनी के मंदिर में नगर पार्षद विजय पंचगामा की अध्यक्षता में बैठक की और प्रशासन को एक सप्ताह का अल्टिमेटम दिया था। इसके बाद उपायुक्त अजय कुमार ने एसडीएम महेश कुमार के नेतृत्व में एक्सईएन बीएंडआर व ट्रेफिक एसएचओ की टीम बनाई। टीम के साथ एसडीएम महेश कुमार अगले ही दिन मौके पर पहुंचे और स्थानीय लोगों को जल्द समाधान का भरोसा दिलाया था। इस पर लोगों ने तुरंत संज्ञान लेकर समाधान के लिए प्रयास करने के लिए डीसी अजय कुमार और एसडीएम महेश कुमार का आभार भी जताया था। पर अब तक कोई समाधान होने पर फिर बैठक की गई है।

नगर पार्षद विजय पंचगामा ने कहा कि कॉलोनी के गणमान्य लोगों में भारी रोष है। पर एसडीएम महेश कुमार ने दो दिन में भारी वाहनों को यहां से किसी दूसरे रोड पर डाइवर्ट करने का भरोसा दिया है। उन्होंने कहा कि एसडीएम के आश्वासन पर सभी लोग दो दिन और इंतजार करेंगे। उन्होंने कहा कि दो दिन में समाधान हुआ तो कॉलोनी के लोग अधिकारियों का सम्मान करेंगे अन्यथा बच्चों और महिलाओं को साथ लेकर बड़ा आंदोलन किया जाएगा. जिसकी जिम्मेवारी जिला प्रसासन की होगी.

गौरतलब है कि फ्रेंडस कॉलोनी की इस सड़क को भारी वाहनों की आवाजाही के लिए खुद बीएंडआर विभाग अयोग्य बता चुका है।

RELATED ARTICLES
Html code here! Replace this with any non empty raw html code and that's it

Most Popular